Breaking News

सीएम योगी का बना मंदिर, जानिए किसने कराया दिया निर्माण

Adarsh Bharat Team | Nishu Malik

Updated on : September 19, 2022


सीएम योगी का बना मंदिर, जानिए किसने कराया दिया निर्माण


उत्तर प्रदेश में एक ऐसा अनोखा मंदिर बन गया है, जिसके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे. वैसे तो हिन्दू धर्म में मंदिरों के निर्माण का प्रचलन वैदिक काल से चला आ रहा है, लेकिन इस बार जो मंदिर बना वह कुछ अलग है. बताया जाता है कि मंदिर का अर्थ है मन से दूर कोई स्थान, जहां भगवान या गुरु वास करते हैं. मंदिर का निर्माण आस्था के अलावा भी किया जा सकता है. जब कोई संकल्प पूरा हो जाए, तो भी मंदिर बनवाया जाता है. श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में भी ऐसा ही एक मंदिर बनवाया गया है. यह मंदिर जुड़ा तो श्रीराम मंदिर निर्माण के संकल्प से ही है, लेकिन उसमें पूजा होगी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री यूपी योगी आदित्यनाथ की. 

मंदिर का वीडियो देखें-----https://youtube.com/shorts/ED_bZD_dGC0?feature=share

एक संकल्प के तहत बनाया गया है श्रीराम का मंदिर
बताया जा रहा है कि इस मंदिर निर्माण के पीछे एक बड़ा संकल्प है. यह मंदिर अयोध्या-गोरखपुर हाइवे के किनारे भरतकुंड के पास बनाया गया है. भरतकुंड में ही भगवान राम के भाई भरत ने श्रीराम के वनवास के दौरान उनके खड़ाऊ सिंहासन पर रखकर 14 वर्षों तक राजकाज संभाला था. वहीं, 21वीं सदी के 14वें साल यानी 2014 में योगी प्रचारक बने प्रभाकर मौर्य ने सीएम योगी के इस मंदिर का निर्माण किया. प्रभाकर का कहना है कि यह उनके संकल्प की पूर्ति का भी साक्षी है. 

राम मंदिर के निर्माण में सीएम योगी की बड़ी भूमिका
दरअसल, प्रभाकर मौर्य ने संकल्प था कि जो भी अयोध्या में श्रीराम की जन्मभूमि पर उनका भव्य मंदिर बनवाएगा, वह उस व्यक्ति का मंदिर बनाएंगे. अब जब सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में श्रीराम मंदिर बन रहा है तो उनका संकल्प पूर्ण हो गया है. मौर्य का कहना है कि भगवान राम के भव्य मंदिर के निर्माण के पीछे योगी आदित्यनाथ की बड़ी भूमिका है. 

मंदिर में होती है सीएम योगी की आरती, गाए जाते हैं भजन
जानकारी के मुताबिक, मूर्ति को प्रभाकर ने बाराबंकी के एक मूर्तिकार दोस्त से बनवाया है. इस मूर्ति को बनने में 2 महीने का समय लग गया है. वहीं, जानकारी यह भी है कि मंदिर में सीएम योगी की बकायदा पूजा और आरती के साथ योगी भजन भी बजते हैं. आरती के समय योगी पर लिखे गीत भी गाए जाते हैं. यह गीत खुद प्रभाकर मौर्य ने ही लिखे हैं.



leave a comment

आज का पोल और पढ़ें...